संस्मरण - श्री गोपालराव येवतीकर

संघ का प्रारंभिक गणवेश पूरा खाकी था ! खाकी नेकर खाकी कमीज खाकी मोज़े ! किन्तु द्वितीय विश्व युद्ध के समय प्रथकता दिखाने के लिए काली नेकर सफ़...



संघ का प्रारंभिक गणवेश पूरा खाकी था ! खाकी नेकर खाकी कमीज खाकी मोज़े ! किन्तु द्वितीय विश्व युद्ध के समय प्रथकता दिखाने के लिए काली नेकर सफ़ेद कमीज सफ़ेद जूते नीले मौजे संघ गणवेश बने ! १९५३ में गोपाल राव जी का प्रथम वर्ष मल्हारगंज इंदौर से हुआ ! स्थानाभाव के कारण आवास, बौद्धिक पंडाल, संघ स्थान सभी एक एक दो दो कि.मी. की दूरी पर थे ! ग्वालियर से डा. केशव नेवासकर तथा शिवपुरी के सुशील बहादुर अष्ठाना ने भी इसी वर्ष संघ हिक्षा वर्ग किया था ! उन दिनों राजा भाऊ पातुरकर प्रांत प्रचारक थे ! मिलिट्री में जाने की इच्छा थी ताकि रिश्वत ना लेनी पड़े ! पहले माता पिता की सेवा फिर देश सेवा, यही द्रष्टि थी ! इसलिए शाखा जाते रहने के बाद भी संघ के प्रति गंभीरता नही थी ! 

साथियों के साथ सब्जी खरीदने जाते तो कदम मिलाकर चलने का अभ्यास करते ! संघ स्थान पर मना किया जाता कि क्रिकेट देखने नही जाना, बह विदेशी खेल है ! किन्तु मित्रों के साथ निवास स्थान राजबाड़े से ४ कि.मी. दूर यशवंत क्लब मैदान पर क्रिकेट देखने जाते ! किन्तु अधिकारी भी कहाँ मानने बाले थे ! शाखा समय होने पर बहां भी पहुँच जाते और ढूंढकर पकड़कर शाखा लाते ! ये लोग अलग अलग बैठते, ताकि सब एक साथ पकड़ में ना आयें ! ये कितना भी थकाते खिजाते पर वे नहीं मानते ! किन्तु पातुरकर जी ने संघ अधिकारियों मुकुंदराव कुलकर्णी तथा प्रभाकर शंकर काले को कह रखा था कि इन पर नजर रखो, ये उपयोगी स्वयंसेवक साबित होंगे ! 

किन्तु धीरे धीरे संघ के प्रति द्रष्टि बदली ! गुरूजी के ५१ वे जन्म दिवस पर श्रद्धानिधि देने हेतु ट्यूशन कर धन संग्रह किया ! १९५८ में द्वितीय वर्ष करना चाहते थे किन्तु बहिन की शादी के कारण संभव नही हुआ ! १९५९ में जबलपुर से द्वितीय वर्ष का प्रशिक्षण हुआ ! बहां गुरूजी का बौद्धिक सुना ! उन्होंने कहा कि संघ शिक्षा वर्ग में कष्टपूर्ण जीवन की योजना, बस्तुतः स्वयंसेवक को उसकी क्षमताओं का ज्ञान कराने के लिए की जाती है ! यहां जो अच्छी आदतें मिली हैं, जैसे जल्दी उठना, चिंतन, मनन आदि, उन्हें भविष्य में भी बनाए रखना ! गुरूजी की कही बातों का गंभीर असर हुआ ! संघ शिक्षा वर्ग से लौटकर जल्दी उठने की आदत को बनाए रखा ! उसके लिए एक जिम्मेदारी स्वतः निर्धारित कर ली ! सायं शाखा में आने बाले स्वयंसेवकों को प्रातः अध्ययन के लिए जगाना ! उनके माता पिता उन्हें नहीं उठा पाते थे, किन्तु गोपालराव जी जगाने जाते तो वे उठकर पढाई करते ! इससे परिवार के लोग भी खुश हुए ! 

१९५७-५८ में शाखा कार्यवाह बने ! किन्तु कठोर अनुशासन के स्वभाव के कारण प्रारम्भ में परेशानी हुई ! एक स्वयंसेवक को अनुशासन हीनता करने के कारण चपत जमा दी ! उसने शाखा आना बंद कर दिया ! उसके साथ उसके मित्रों ने भी आना छोड़ दिया ! स्थिति यह हो गई कि संघ स्थान पर अकेले खड़े रहना पडता ! किन्तु हिम्मत नही हारी ! नियमित संघ स्थान पर पहुंचते, ध्वज स्थान की सफाई करते, मैदान में पानी का छिडकाव कर अंकन करते और फिर अकेले ही प्रार्थना कर शाखा विकिर कर लौट जाते ! शेष स्वयंसेवक मैदान के बाहर खड़े होकर यह तमाशा देखते रहते ! अंततः इस धैर्य का परिणाम निकला और शाखा पुनः व्यवस्थित प्रारम्भ हुई ! पहले जहां औसत उपस्थिति १८ रहा करती थी, अब ४० रहने लगी !

१९६० में तृतीय वर्ष का शिक्षण हुआ ! दोनों बड़े भाई पहले ही तृतीय वर्ष कर चुके थे ! अरविन्द जी मोघे घर की खराब स्थिति के बाद भी प्रचारक निकल चुके थे ! उन्हें देखकर प्रेरणा मिली कि जब ये इतनी विषम परिस्थिति में राष्ट्रसेवा के लिए घर छोड़ सकते हैं तो मैं क्यों नहीं ? संघ शिक्षा वर्ग से ही घर पत्र लिखकर अपने प्रचारक निकलने की इच्छा बता दी ! बड़े भाई मधुसूदन जी का जबाब आया कि “जिसको निकलना होता है बह ज्यादा विचार नहीं करता ! हम विचार करते रहे तो नहीं निकल पाए” ! भाई के इस उत्तर ने विचार को और भी द्रढता दी ! संघ शिक्षा वर्ग के उपरांत सीहोर जिला प्रचारक की घोषणा हुई ! उस समय दिगंबर राव तिजारे बहां विभाग प्रचारक थे !

दो वर्ष सीहोर रहने के बाद पांच वर्ष होशंगावाद जिला प्रचारक रहे ! उसी दौरान बहां प्रांतीय विस्तारक वर्ग हुआ, जिसमें ६००-७०० विस्तारक सम्मिलित हुए ! इस वर्ग में एकनाथ जी रानाडे के ३० बौद्धिक हुए, जिनमें उन्होंने दासवोध के माध्यम से सम्पूर्ण संगठन शास्त्र सिखाया ! होशंगावाद में संघ कार्य अमरावती से आये विष्णूपन्त कर्वे के समय बढ़ा था ! द्रोणकर, मोरेश्वर तपस्वी, रामभाऊ मिटावलकर बैतूल आदि क्षेत्रों में सक्रिय रहे !

होशंगावाद के बाद १९६६ में येवतीकर जी भोपाल के सह विभाग प्रचारक नियुक्त हुए तथा उसके बाद १९६९ से १९७७ तक भोपाल विभाग प्रचारक ! १९७७ से १९८२ तक महाकौशल में विश्व हिन्दू परिषद के संगठन मंत्री बने ! उस समय छत्तीसगढ़ भी इस रचना में सम्मिलित था ! उसके बाद एक बार फिर १९८६ तक भोपाल विभाग प्रचारक रहे ! ८६ से ८८ तक येवतीकर जी पंजाब में लुधियाना विभाग प्रचारक के रूप में कार्यरत रहे ! उसके बाद १९९७ तक सिक्ख संगत में कार्य किया ! तदुपरांत वनवासी कल्याण आश्रम के क्षेत्रीय संपर्क प्रमुख हैं ! पहले मुख्यालय भोपाल था जो अब बदलकर जबलपुर है !

संस्मरण –

· १९५० में अजमेर ओ.टी.सी. के बाद प्रांत प्रचारक ने सभी प्रचारकों से कहा कि अब प्रचारक व्यवस्था समाप्त की जा रही है, अतः सब घर वापस लौट जाएँ ! इस सूचना के बाद कुछ प्रचारक गुरूजी से मिले और पूछा कि गुरूजी आप शादी कब कर रहे हैं ? इस प्रश्न से गुरूजी असमंजस में पड गए और बोले कि मैं शादी क्यूं करूँगा भला ? इस पर प्रचारकों ने कहा कि जब आप गृहस्थ नहीं बन सकते तो फिर हमसे यह अपेक्षा क्यों ? सारी स्थिति समझकर गुरूजी ने उन्हें समझाया कि संघ की आर्थिक स्थिति एसी नहीं है कि बह प्रचारकों के प्रवास व्यय को भी बहन कर सके ! इसके बाद निर्णय हुआ कि जो लोग स्वयं व्यवस्था कर संघ कार्य कर सकते हैं, वे रहें शेष वापस घर जाएँ ! तभी बाबा साहब नातू और राजाभाऊ महाकाल ने सोनकच्छ में चाय की दूकान चलाई और तिजारेजी ने उज्जैन के विनोद मिल में स्वीपर की नौकरी की ! उस समय मध्य भारत के नौ तथा महाकौशल के पांच प्रचारकों को छोडकर सब वापस हुए ! उनमें से कुछ ने विवाह कर गृहस्थ जीवन भी अपनाया !

· भैयाजी बडनगर प्रचारक बने ! उनका निर्णय था कि भोजन मांगकर नही करना ! एक बार चार दिन तक भोजन नहीं मिला और संघ स्थान पर ही बेहोश हो गए ! यह जानकर खोचे जी की मां अत्यंत दुखी हुईं ! उन्होंने कहा कि आगे से मैं तुम्हारे बाद ही भोजन करूंगी ! जब तक तुम्हारा भोजन नहीं होगा मैं भी भोजन नहीं करूंगी ! इस नियम का माताजी ने कड़ाई से पालन किया ! जब तक भैयाजी का भोजन उनके घर में नहीं हो जाता या उनका भोजन हो गया, यह समाचार नहीं आ जाता, वे भूखी बैठी रहतीं !

· १९६२ के चीन युद्ध के बाद सीहोर जिले के पान गुरडिया नामक स्थान पर शिविर का आयोजन हुआ ! रक्षा व्यवस्था में तैनात स्वयंसेवकों को सोया देखकर येवतीकर जी ने कुछ स्वयंसेवकों का सामान तथा खुद की रजाई चुपचाप उठाकर शिविर स्थल के बाहर छुपा दिया ! स्वयं ही हल्ला मचा दिया कि शिविर में कोई चोर आया था ! व्हिसिल बजाई जाकर जागरण हुआ ! सब जागकर अपना अपना सामान देखने लगे और जिनका सामान गायब था वे भी शिकायत करने लगे ! इस पर चारों और उस कल्पित चोर को ढूँढने की कोशिश हुई, किन्तु कुछ पता नहीं चला ! अंततः शिविर अधिकारी को कुछ अनुमान येवतीकर जी की भाव भंगिमा से हुआ ! अकेले में पूछे जाने पर वस्तुस्थिति की जानकारी हुई ! फिर रात को ढाई बजे सबको एकत्रित कर बौद्धिक हुआ ! आज जब देश संकट से घिरा है तब यदि पहरेदार ही सो जाएगा तो देश का क्या होगा !

· गोवा मुक्ति आंदोलन के समय सीहोर से भी सत्याग्रही जत्था निकला ! इन सत्याग्रहियों को हार पहनाकर नगर के प्रमुख मार्गों से इनका जुलूस निकाला गया ! केसरीमल भावसार, नरेंद्र चौरसिया के साथ हीरालाल भावसार भी सत्याग्रही के रूप में निकल रहे थे ! तभी हीरालाल जी के बड़े भाई को यह जानकारी मिली ! बह अत्यंत तैश में बहां पहुंचे और हीरालाल जी को रोकने का प्रयत्न करने लगे ! उन्होंने हार पहनकर चल रहे अपने छोटे भाई को चप्पल भी मारी, किन्तु अविचल हीरालाल गोवा जाकर ही माने !

· अमरावती से सीहोर आकार बसे बिट्ठल दास शर्मा “गुरू” सीहोर में संघ कार्य विस्तार की धुरी थे ! तीसरी चौथी क्लास तक पढ़े बिट्ठल गुरू स्टेंड कंडक्टर तथा जैन मंदिर के पुजारी थे, साथ ही सिद्धहस्त नमकीन के कारीगर भी ! वे मंगोडे का ठेला लगाते और जो कुछ भी कमाते सब संघ कार्य के लिए समर्पित कर देते ! गाँव से शहर अध्ययन करने आने बाले प्रत्येक बालक के वे स्वतः पालक हो जाते ! उसके सुख दुःख की चिंता करते और धीरे धीरे उसे संघ विचार की घुट्टी पिला देते ! एक बार बड़े भाई के विवाह में सम्मिलित होने अमरावती महाराष्ट्र गए ! जब लौटे तो उनका भी विवाह हो चुका था ! रिश्तेदारों ने पीछे पडकर बड़े भाई की साली से ही उनका सम्बन्ध करवा दिया था ! किन्तु विवाह के बाद भी उनकी संघ निष्ठा पर कोई विपरीत असर नहीं हुआ ! वे आजीवन गृहस्थ प्रचारक के रूप में कार्यरत रहे ! जब श्री दीवान चंद महाजन जनसंघ प्रत्यासी के रूप में पराजित हुए, उसके बाद संगठन पर कर्जा हो गया था ! तब बिट्ठल गुरू ने अपनी पत्नी के गहने गिरवी रखकर बह कर्जा चुकाया ! वस्तुतः सीहोर में संघ जनसंघ के पर्याय थे बिट्ठल गुरू, नरेंद्र चौरसिया, गोपाल राठौर आदि ! इन लोगों को अपने घर से ज्यादा संगठन की चिंता रहती थी !

· इंदौर निवासी मदन गोरे विदिशा में प्रचारक रहे ! बाद में एक अंग्रेज को मारकर वे फ़ौज में भर्ती हो गए ! १९६५ के भारत पाकिस्तान युद्ध में कैप्टिन गोरे शहीद हुए !

· विवेकानंद शिला स्मारक कार्यालय का दायित्व प्रांत में मिश्रीलाल जी तिवारी ने संभाला ! प्रांत प्रचारक श्री सुदर्शन जी उस व्यवस्था के सचिव थे ! उन दिनों उनके पेट में फोड़ा हो गया था ! उसे कपडे से बांधकर, बिना किसी को कुछ बताए, कष्ट को पीते ऊपर से मुस्कुराते हुए उन्होंने अत्यंत कुशलता से उस समय सम्पूर्ण योजना को सफल बनाया ! भैयाजी दाणी की अंतिम इच्छा के रूप में इंदौर स्वदेश का प्रारम्भ भी सुदर्शन जी के अथक परिश्रम से ही संभव हुआ ! जिस समय मुद्रणालय लगा, एक ईंजीनियर की भूमिका में खड़े रहकर उस सारी व्यवस्था की देखरेख उन्होंने की !

· रायसेन, आष्टा, गैरत गंज, गौहर गंज अदि क्षेत्रों में मुस्लिम आतंक के कारण आम हिन्दू डरा सहमा रहता था ! अरविंद कोठेकर जी के जिला प्रचारक काल में सिरोंज में शीत शिविर का आयोजन हुआ ! उन्ही दिनों भोपाल में दंगा हुआ था ! अतः स्थिति तनावपूर्ण थी ! शीत शिविर के समापन पर संचलन निकालने की भी योजना थी ! रात को १२ बजे अकस्मात पुलिस कांस्टेबल ने आकर बताया कि कोतवाली पर बुलाया है ! बहां डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट तथा पुलिस एस.डी.ओ.पी. उपस्थित थे ! उन लोगों ने पूछा कि आपने संचलन के लिए कोई अनुमति ली है क्या ? गोपाल राव जी ने कहा कि सड़क पर चलने की भी कोई अनुमति लेता है क्या ? हमने कभी कहीं अनुमति नहीं ली ! उन्होंने कहा कि दंगा हो सकता है ! जबाब मिला – तो फिर आप काहे के लिए हैं ? अधिकारीगण निरुत्तर हो गए ! यह समाचार शहर में भी फ़ैल गया स्वयंसेवक और भी उत्साह में आ गए ! संचलन भी निकला और नगर में उसका भव्य स्वागत हुआ ! गोपाल राव जी के प्रति समाज में आदर भाव और बढ़ गया !

· ठाकरे जी की सबसे छोटी बहिन की शादी में उन्होंने पहले से कह दिया था कि वे एक पंडित को लेकर आयेंगे जिसे दक्षिणा देना होगी ! वे मिश्रीलाल जी तिवारी को लेकर पहुंचे ! वैवाहिक कार्य संपन्न हो जाने के बाद उन्होंने कहा कि ये ही बह पंडित हैं ! विवाह में इतना खर्च किया है तो वनवासियों के कल्याण के लिए भी कुछ खर्च करो ! यह सुनकर वर तथा कन्या पक्ष के दोनों समाधियों ने २००-२०० रु. दिए ! तभी से स्वयंसेवकों के परिवारों में यह प्रथा प्रारम्भ हो गई तथा उसके परिणाम स्वरुप वनवासी कल्याण आश्रम को मिलने बाली सहायता में गुणात्मक वृद्धि हुई !

आपातकाल –
प्रकाश चन्द्र सेठी द्वारा किये जा रहे ओवरब्रिज लोकार्पण कार्यक्रम के दौरान ईश्वर तोलानी तथा अरुण पलनीटकर के नेतृत्व में स्वयंसेवकों ने सत्याग्रह कर गिरफ्तारी दी !

आपातकाल की घोषणा के तत्काल बाद सुदर्शन जी ठाकरेजी तथा प्यारेलाल जी की भेंट भोपाल कार्यालय पर हुई ! बहां तय किया गया कि संगठन मंत्री के नाते ठाकरे जी तो गिरफ्तारी दें, किन्तु प्यारेलाल जी बाहर रहकर संगठन सूत्र संभालें ! बैठक के बाद जैसे ही प्यारेलाल जी कार्यालय से नीचे उतरे तो बहां पुलिस मौजूद थी ! एक अधिकारी ने इनसे पूछा कि प्यारेलाल कहाँ हैं ! प्यारेलाल जी ने उत्तर दिया “ऊपर ठाकरे जी के साथ” ! ऐसा एक बार नहीं दो बार हुआ ! ट्रेन में सफर करते समय प्यारेलाल जी इटारसी स्टेशन के प्लेटफार्म पर लूंगी पहिनकर घूम रहे थे, कि तभी पुलिस ने उन्हें पकड़ कर सामान की तलाशी ली ! किन्तु कुछ ना मिलने पर माफी मांगकर छोड़ दिया ! इसी प्रकार एक बार इंदौर में लक्ष्मण राव तरानेकर जी को गोपाल राव येवतीकर समझ कर पकड़ लिया गया किन्तु उन्होंने कहा कि में तो गोपाल राव नहीं रामानुजम हूँ ! अनजान पुलिस ने उन्हें छोड़ दिया !

आपातकाल में बाबा साहब नातू इंदौर की जगह भोपाल में टोपेनगर स्थित रामकृष्ण सोलंकी के घर पर रहे ! बाहर रहे सभी प्रचारक भेष बदलकर घूम रहे थे ! मोरूभैया गद्रे का बदला हुआ वेश सबसे अच्छा था ! जयरामदास टहलयानी झमटमल बनकर घूमे ! वे उसके बाद १९८० तक विदिशा रायसेन आदि में रहे ! उसके बाद हरिद्वार में शक्तिपात दीक्षा लेकर स्वामी शिवओम तीर्थ बन गए ! फिर जयराम चैतन्य के नाम से झाबुआ के वनवासी क्षेत्र में सेवा कार्य में लगे ! बाद में पूरी तरह आध्यात्मिक जीवन में प्रविष्ट हो गए ! एकान्तजीवी सन्यासी होकर स्वामी विद्यातीर्थ बन गए !

COMMENTS

नाम

अखबारों की कतरन अपराध आंतरिक सुरक्षा इतिहास उत्तराखंड ओशोवाणी कहानियां काव्य सुधा खाना खजाना खेल चिकटे जी तकनीक दुनिया रंगविरंगी देश धर्म और अध्यात्म पर्यटन पुस्तक सार प्रेरक प्रसंग बीजेपी बुरा न मानो होली है भगत सिंह भारत संस्कृति न्यास भोपाल मध्यप्रदेश मनुस्मृति मनोरंजन महापुरुष जीवन गाथा मेरा भारत महान मेरी राम कहानी राजीव जी दीक्षित लेख विज्ञापन विडियो विदेश वैदिक ज्ञान व्यंग व्यक्ति परिचय शिवपुरी संघगाथा संस्मरण समाचार समाचार समीक्षा साक्षात्कार सोशल मीडिया स्वास्थ्य
false
ltr
item
क्रांतिदूत: संस्मरण - श्री गोपालराव येवतीकर
संस्मरण - श्री गोपालराव येवतीकर
क्रांतिदूत
http://www.krantidoot.in/2015/03/blog-post_85.html
http://www.krantidoot.in/
http://www.krantidoot.in/
http://www.krantidoot.in/2015/03/blog-post_85.html
true
8510248389967890617
UTF-8
Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS CONTENT IS PREMIUM Please share to unlock Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy