भारत सभ्यता का पालना - विज्ञान की नजर में आर्य द्रविड़, ऊंच नीच के मिथक - ए.एल. चावड़ा

SHARE:

लेखक - श्री ए.एल.चावड़ा  आनुवंशिक शब्दावली में , एक विशिष्ट आनुवंशिक परिवर्तन वाले ऐसे व्यक्तियों का समूह, जिनके पूर्वज समान हों, &...

लेखक - श्री ए.एल.चावड़ा 


आनुवंशिक शब्दावली में, एक विशिष्ट आनुवंशिक परिवर्तन वाले ऐसे व्यक्तियों का समूह, जिनके पूर्वज समान हों, "हापलोग्रुप" समूह कहलाता है । एक हापलोग्रुप की वंशावली आमतौर पर कई हज़ार वर्ष पूर्व तक की होती है। दूसरे शब्दों में, एक हापलोग्रुप एक ऐसा विशाल, विस्तारित परिवार या कबीले है, जिनके सभी सदस्यों का साझा वंश है। दो प्रकार के हापलोग्रुप हैं: वाई - क्रोमोसम (पितृसत्तात्मक) हापलोग्रुप, और एमटीडीएनए (मातृसत्तात्मक) हापलोग्रुप । हापलोग्रुपों की पहचान वर्णमाला के अक्षर (ए, बी, सी, इत्यादि) से और उप-समूहों की अक्षरों और संख्याओं (ए 1, 1, आदि) द्वारा की जाती है।
वाई-क्रोमोसोमल (पितृसत्तात्मक) हापलोग्रुप R1a1a (जिसे आर-एम 17 भी कहा जाता है) दुनिया का सबसे सफल विस्तारित परिवार है। इसके सदस्य संख्या सैकड़ों लाखों में, संभवतः एक अरब से अधिक है और यह व्यापक रूप से यूरेशिया में फैला है, साथ ही रूस, पोलैंड और यूक्रेन तथा भारतीय उपमहाद्वीप और एशियाटिक रूस के तुवा क्षेत्र में भी इसकी व्यापक पैमाने पर उपस्थिति है ।
यूरेशिया में R1a1a, निकटता से इंडो-यूरोपियाई भाषाओं के प्रसार के साथ जुड़ा हुआ है। भारत में, आर 11 ए को भारत में आर्य लोगों के प्रतिनिधित्व वाले हापलोग्रुप के रूप में पहचाना जाता है। पिता से बेटे तक यह एक निर्बाध वंशावली है, जिनमें से सभी एक सामान्य पुरुष पूर्वज से उत्पन्न हुए हैं ।
यह शोध पत्र दर्शाता है कि आर 11 * हापलोग्रुप, जो यूरेशिया में पाया जाता है, उसकी उत्पत्ति भारत में हुई थी | यहां, [7]* मातृसत्तात्मक - पितृसत्तात्मक हापलोग्रुप R1a1 के सभी उपसमूहों को संदर्भित करता है।
[7] Sharma S. et al. The Indian origin of paternal haplogroup R1a1* substantiates the autochthonous origin of Brahmins and the caste system. Journal of Human Genetics (2009) 54, 47–55; doi:10.1038/jhg.2008.2
2015 में प्रकाशित इस हालिया अध्ययन ने पुष्टि की है और [7] के परिणामों को परिष्कृत करते हुए दिखाया है कि हापलोग्रुप आर 1 ए के सबसे पुराने उदाहरण भारतीय उपमहाद्वीप में पाए जाते हैं और लगभग 15,450 वर्ष पुराना है [8]
[8] Lucotte G. (2015) The Major Y-Chromosome Haplotype XI – Haplogroup R1a in Eurasia. Hereditary Genet 4:150. doi: 10.4172/2161-1041.1000150
यह एक महत्वपूर्ण खोज है, जिससे साबित होता है कि:
आर 1 ए हापलोग्रुप भारत में उत्पन्न हुआ
यह इस सिद्धांत को अमान्य करता है कि भारतीय-आर्यों ने 3,500 साल पहले भारत पर हमला किया था, साथ ही यह सिद्ध करता है कि भारतीय-आर्य लोग कम से कम 15,450 वर्षों से भारत में रहते हैं,
आज दुनिया भर में फैले आर 1 ए परिवार के सैकड़ों लाख सदस्य (संभवतः एक अरब से अधिक) उसी पूर्वज के वंशज हैं जो भारत में कम से कम 15,450 साल पहले निवास करता था ।
यह शोध रूसी और पोलिश लोगों, वाइकिंग्स और नॉर्मन्स के साथ भारतीयों के करीबी आनुवंशिक (और इसलिए भाषाई और सांस्कृतिक) आत्मीयता को दर्शाता है, और इसी प्रकार प्राचीन सिथियन और टोचारियन के साथ भी ।
यह अकाट्य वैज्ञानिक प्रमाण है कि भारतीय-आर्य न केवल 15,450 साल पहले भारत में उत्पन्न हुए, बल्कि यह भी कि उसके बाद वे भारत से बाहर फैल कर सुदूर यूरोप के पश्चिमी देशों में बस गए। यह आर्य आक्रमण सिद्धांत और आर्य प्रवासी सिद्धांत को पूरी तरह से अमान्य करता है।
आर्य-द्रविड़ और ऊंच नीच का विभाजन - एक मिथक
तथाकथित आर्य-द्रविड़ विभाजन पूर्णतः भ्रामक है | प्रकृति की इस रिपोर्ट [9] में तीन आनुवंशिक अध्ययनों के हवाले से आर्य-द्रविड़ के विरोधाभास  की अवधारणा को नकारा हैं, तथा यह सिद्ध किया है कि ज्यादातर भारतीय आनुवंशिक रूप से एक समान हैं । अन्य अध्ययनों से भी यही पता चलता है कि उत्तर भारत के लोग दक्षिण भारत के लोगों से अलग नहीं हैं और सभी के आनुवंशिक वंश समान हैं ।
[9] Dolgin E. Indian ancestry revealed (2009). doi:10.1038/news.2009.935
आर 11 ए हापलोग्रुप जिस उच्च आवृत्तियों के साथ उत्तर भारतीयों में मिलता है, बैसे ही दक्षिण भारतीयों में भी, इतना ही नहीं तो आदिवासी समुदायों में और तथाकथित 'निम्न जातियों' में भी 'उच्च जातियों' के समान ही पाया जाता है
300 ईसा पूर्व के प्राचीन तमिल संगम साहित्य के हवाले से यह दुष्प्रचार किया जाता है कि द्रविड़ अलग हैं, और गैर-हिंदू सभ्यता से संबंधित हैं । आईये इस विषय की सचाई जांचें - सबसे पुराने तमिल संगम साहित्य में महाभारत का उल्लेख मिलता है। वेद और रामायण का भी संगम साहित्य में उल्लेख किया गया है। इतना ही नहीं तो संगम साहित्य में पूरे भारत का उल्लेख है, कहा गया है कि यह भूमि "हिमालय के उत्तर" से प्रारम्भ होती, जो इस बात का पुष्ट प्रमाण है कि द्रविड़ लोग भारत के दक्षिण तक ही सीमित नहीं थे।
उपरोक्त साक्ष्यों को अगर साथ साथ देखा जाए तो उत्तर से दक्षिण तक, भारत की आनुवंशिक और सांस्कृतिक निरंतरता सिद्ध होती है, और साथ ही यह भी दिखाई देता है कि "आर्य-द्रविड़ विभाजन" और "उच्च जाति" - 'नीच जाति' के विभाजन की अवधारणा कृत्रिम है |
भारतीय-आर्यों का पश्चिम गमन - साहित्यिक साक्ष्य
वैदिक बौद्धयान श्रुता सूत्र 18:44 पर मनन करें:
"अमावासु ने पश्चिम की ओर गमन किया उनके साथ गांधारी, परसू और अरत्ता हैं। "
इसमें अमावसु नामक एक वैदिक राजा का उल्लेख है, जिसके लोग गांधारी (गांधार-अफगानिस्तान), पारसू (फारसी) और अरत्ता हैं, जो माउंट अरारत के आसपास के क्षेत्र में रहने वाले हैं। अरारत पर्वत तुर्की (पूर्वी अनातोलिया) और आर्मेनिया में स्थित है |
इस्लामिक आक्रमण के पूर्व तक अफगानिस्तान (गांधार) ऐतिहासिक रूप से भारतीय सभ्यता का हिस्सा था । "फारस" नाम प्राचीन पार्षव लोगों (एक आर्य कबीले) का अपभ्रंश है। शब्द "परशु" तो स्पष्टतः संस्कृत का है ही, जिसका अर्थ है "युद्ध शस्त्र-कुल्हाड़ी"। स्पष्टतः भारत और फारस के बीच भाषाई और सांस्कृतिक समानताएं हैं |
माउंट अरारत का पारंपरिक अर्मेनियाई नाम मासिस है, जो कि एक प्रसिद्ध अर्मेनियाई राजा अमास्या के नाम पर है | स्पष्ट दिखाई देता है कि यह नाम "अमासया" बौद्धयान श्रुद्ध सूत्र में उल्लेखित भारतीय राजा के नाम "अमावसु" से भाषायी रूप से मिलता है। अफगानिस्तान होते हुए, फारस, आर्मेनिया और अनातोलिया की ओर भारतीय-आर्यों के पश्चिमगमन और विस्तार का यह साहित्यिक प्रमाण है ।
जर्मन इंडोलोजिस्ट एम. विट्जेल और मार्क्सवादी इतिहासकार रोमिला थापर ने दुर्भावना पूर्वक सारे घटनाचक्र को ही उलट दिया और बताया कि अमावसु पश्चिम से पूर्व की ओर आया, इससे अकारण का विवाद उत्पन्न हुआ ।
भारतीय-आर्यों के पश्चिम गमन और विस्तार के पुरातात्विक साक्ष्य
वर्तमान सीरिया और अनातोलिया में स्थित मितन्नी का प्राचीन साम्राज्य, संस्कृत-भाषी भारतीय-आर्यों द्वारा शासित था। मितन्नी राजाओं के नाम भारतीय आर्यों के समान ही थे |
वैदिक संस्कृत में घोड़ों के एक प्रशिक्षण मैनुअल में एक पुराना रिकॉर्ड मिलता है, जिसमें मितन्नी घोडे के एक प्रशिक्षक का नाम “किक्कुली” बताया गया है । रोचक तथ्य यह है कि हिटित भाषा में भी उल्लेख मिलता है कि ऐसा प्रतीत होता है कि किकुली को उस भाषा के तकनीकी शब्दों का इस्तेमाल करने में कठिनाई आती थी, क्योंकि वह उससे पर्याप्त परिचित नहीं था, अतः उसे विवश होकर अपनी मातृभाषा (वैदिक संस्कृत) की शब्दावली का उपयोग करना पड़ा ।
बोगाज्कले अनाटोलिया (टर्की) में मिट्टी की पट्टिका प्राप्त हुई हैं, जिन पर एक शाही संधि में वैदिक देवताओं इंद्र, मित्र, नसता और वरुण को साक्ष्य हेतु आमंत्रित किया गया है । मिट्टी की पट्टिकाओं पर अंकित तिथि 1380 ईसा पूर्व की है, तथा यह तिथि किकुली के घोड़े प्रशिक्षण मैनुअल के समान ही है।
मिट्टन भारतीय मूल के हापलोग्रुप आर 11 ए के ही थे। यह संस्कृत भाषी भारतीय-आर्यों के बड़े पैमाने पर पश्चिमव्यापी विस्तार का स्पष्ट प्रमाण है, और इस बात का भी कि भारत से हजारों किलोमीटर दूर पश्चिम की भूमि पर सत्तारूढ़ अभिजात वर्ग के रूप में उनकी उपस्थिति थी । यह एसिनाइन के इस दावे को खारिज करता है कि सबसे पहले संस्कृतभाषी सीरियन थे | यह दावा इतना हास्यास्पद था कि मुख्यधारा के इतिहासकारों ने भी इसे गंभीरता से नहीं लिया ।
भारतीय-आर्यों के पश्चिम की ओर विस्तार के आनुवंशिक साक्ष्य
हाल ही में प्राप्त डीएनए सबूत से पता चलता है कि वर्तमान से लगभग 4,500 वर्षों पहले यूरोप में पूर्व से बड़े पैमाने पर आबादी का प्रवाह हुआ [10]। इसमें भारतीय मूल के आर 11 ए समेत हप्पल ग्रुप शामिल थे। प्रतिस्थापन की यह घटना इंगित करती है कि दूसरों के साथ भारतीय-आर्य भी पश्चिम की ओर यूरोप में फैले और उसके कारण बड़े पैमाने पर स्वदेशी यूरोपीय लोग और उनका वाई-गुणसूत्र स्तर बदल गया।
यह सैन्य विस्तार और विजय को इंगित करता है ।
यह आनुवंशिक सबूत इंगित करता है कि कई वाई-क्रोमोसोमल (पितृसत्तात्मक) वंश, जिनमें से एक भारतीय मूल के आर 1 1 ए भी था, ने आधुनिक यूरोपीय आबादी को जन्म दिया। इन वंशों में से, आर 1 1 ए सबसे व्यापक और प्रमुख था |
ऋग्वेद में नदी दनु को एक देवी और भारतीय-आर्यों के दानव कबीले की मां के रूप में वर्णित किया गया है। देव दानव संघर्ष में दानव पराजित होकर निर्वासित हुए । किन्तु यह इस कहानी का अंत नहीं था ।
ऋग वैदिक संस्कृत में दनु शब्द का अर्थ है "बाढ़, बूंद" है। अवेस्तन (पुरातन ईरानी) में भी "नदी" को "दनु" कहा जाता है । सिथियन (सक / शक) और सरमेटियन में भी "नदी" के लिए "दनु" शब्द का प्रयोग होता हैं।
अब इस पर भाषाई आधार पर विचार करें: यूरोपीय नदियों के नाम डेन्यूब, नीपर, डनिएस्टर, डॉन, डोनट्स, डुनाजेक, डिविना / डौगवा और डिस्ना, ये सभी ऋग वैदिक संस्कृत मूल शब्द "दनु" से उत्पन्न हुए हैं। ये नदियाँ पूर्वी और मध्य यूरोप में बहती हैं | ऋग वैदिक देवी दनू के नाम पर होना, यह सिद्ध करता है कि भारतीय-आर्यों के दानव कबीले ने यूरोप के माध्यम से क्रमशः पश्चिम की ओर प्रवास किया ।
तो दानव अंततः कहाँ समाप्त हुए?
आयरिश और सेल्टिक पौराणिक कथाओं के अनुसार, आयरिश और सेल्टिक लोग एक देवी माँ के वंशज हैं - एक नदी देवी - जिसे दनु कहा जाता है। आयरलैंड के प्राचीन (पौराणिक) लोगों को टूथ डे डेनन (पुरानी आयरिश: "देवी दनु के लोग") कहा जाता है।
क्या इस कहानी का समर्थन करने के लिए कोई आनुवंशिक सबूत हैं? हाँ निश्चित तौर पर है । आयरलैंड में आर 11 ए हैपलॉ ग्रुप बहुत कम है, सम्पूर्ण आबादी का महज 2.5% । इसे इस तथ्य से समझाया जा सकता है कि आयरलैंड ने कांस्य युग के बाद से कई आक्रमणों का सामना किया, जिसके कारण विभिन्न आक्रमणकारियों के साथ संघर्ष में आर 11 ए हैपोलॉ ग्रुप क्रमिक रूप से न्यून होता गया । किन्तु आयरलैंड में अभी भी आर 11 ए की मौजूदगी से यह तो साबित होता ही है कि भारतीय-आर्य मूल के लोग अतीत में वहां बसे थे।
नए साक्ष्यों का यह पर्बत क्या दर्शाता है ?
स्पष्टतः पुरातात्विक, साहित्यिक, भाषाई, और, सबसे महत्वपूर्ण, आनुवंशिक साक्ष्य की परत दर परत से जो सुसंगत, और अनुमानित स्वरूप बनता है, वह आर्यन आक्रमण सिद्धांत को पूरी तरह मिथ्या प्रमाणित करता है, साथ ही यह सिद्ध करता है कि भारत में आर्य कहीं बाहर से नहीं आये, इसके विपरीत वे यहाँ से बाहर गये अवश्य । सबूतों की ये परतें, एक साथ मिलकर, एक विशाल कैनवास पर भारतीय संस्कृति का रंगीन चित्र बनाती हैं | सिद्ध होता है कि:
भारतीय-आर्यन और उनकी संस्कृत भाषा भारतीय उपमहाद्वीप में ही उत्पन्न हुईं।
वैदिक सभ्यता और सिंधु घाटी सभ्यता (सिंधु-सरस्वती सभ्यता) एक ही हैं।
ऋग वेद की रचना ईसा से कमसेकम 5,000 वर्ष पूर्व हुई, जिस समय सरस्वती नदी अपने पूरे उफान पर थी, यह तो निर्विवाद तथ्य है कि यह नदी ईसा से 1,500 वर्ष पूर्व सूख गई थी । यह ऋग्वेद को दुनिया का सबसे प्राचीन ज्ञात साहित्य प्रमाणित करता है।
आक्रमणकारियों का धर्म होने के बजाय, हिंदू धर्म भारत का स्वदेशी धर्म है और इसका मूल सिंधु-सरस्वती सभ्यता में है।
उत्तरी भारतीय और दक्षिण भारतीय आनुवांशिक और सांस्कृतिक रूप से समान हैं। आर्य-द्रविड़ विभाजन एक मिथक है; यह वास्तव में कोई आधार नहीं है 'उच्च जाति' - 'निम्न जाति' विभाजन का भी कोई आधार नहीं है।

भारतीय सभ्यता एक निरंतर, चिरंतन परंपरा है, जिसका प्रारम्भ सिंधु-सरस्वती सभ्यता से वर्तमान में कम से कम 9,500 वर्ष पहले हुआ । यह न केवल भारत की, बल्कि दुनिया की सबसे प्राचीन सभ्यता है, मेसोपोटामिया और मिस्र से भी पुरानी । सचाई यह है कि भारत ही सभ्यता का पालना है।

सम्माननीय लेखक के इसी विषय पर अन्य महत्वपूर्ण आलेख  -

विज्ञान ने किया आर्यों को आक्रमणकारी बताने वाले झूठ का पर्दाफाश - ए.एल. चावडा

COMMENTS

नाम

अखबारों की कतरन,38,अपराध,1,आंतरिक सुरक्षा,15,इतिहास,57,उत्तराखंड,4,ओशोवाणी,16,कहानियां,34,काव्य सुधा,69,खाना खजाना,20,खेल,18,चिकटे जी,25,तकनीक,83,दतिया,1,दुनिया रंगविरंगी,32,देश,158,धर्म और अध्यात्म,200,पर्यटन,14,पुस्तक सार,42,प्रेरक प्रसंग,81,फिल्मी दुनिया,8,बीजेपी,36,बुरा न मानो होली है,2,भगत सिंह,5,भारत संस्कृति न्यास,6,भोपाल,20,मध्यप्रदेश,271,मनुस्मृति,14,मनोरंजन,43,महापुरुष जीवन गाथा,101,मेरा भारत महान,288,मेरी राम कहानी,23,राजनीति,22,राजीव जी दीक्षित,18,राष्ट्रनीति,8,लेख,935,विज्ञापन,1,विडियो,22,विदेश,46,वैदिक ज्ञान,69,व्यंग,5,व्यक्ति परिचय,18,शिवपुरी,317,संघगाथा,44,संस्मरण,35,समाचार,463,समाचार समीक्षा,691,साक्षात्कार,7,सोशल मीडिया,3,स्वास्थ्य,22,
ltr
item
क्रांतिदूत: भारत सभ्यता का पालना - विज्ञान की नजर में आर्य द्रविड़, ऊंच नीच के मिथक - ए.एल. चावड़ा
भारत सभ्यता का पालना - विज्ञान की नजर में आर्य द्रविड़, ऊंच नीच के मिथक - ए.एल. चावड़ा
https://1.bp.blogspot.com/-0mN283EFu7A/WjTd0iMZ5BI/AAAAAAAAJag/QbYAqpyToBQL5DTPsr6wdVXeZvE-hexYwCLcBGAs/s1600/82.jpg
https://1.bp.blogspot.com/-0mN283EFu7A/WjTd0iMZ5BI/AAAAAAAAJag/QbYAqpyToBQL5DTPsr6wdVXeZvE-hexYwCLcBGAs/s72-c/82.jpg
क्रांतिदूत
http://www.krantidoot.in/2017/12/In-the-eyes-of-science-Arya-Dravid-Upper-caste-low-cast-is-myth-A.L.Chawda.html
http://www.krantidoot.in/
http://www.krantidoot.in/
http://www.krantidoot.in/2017/12/In-the-eyes-of-science-Arya-Dravid-Upper-caste-low-cast-is-myth-A.L.Chawda.html
true
8510248389967890617
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS CONTENT IS PREMIUM Please share to unlock Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy