औपनिवेशिक गुलामी का प्रतीक क्रिकेट बनाम विलुप्त होते चुस्ती फुर्ती तंदरुस्ती देने वाले परम्परागत भारतीय खेल |

SHARE:

इन दिनों भारत के हर शहर, गाँव की गलियों में आईपीएल का ही शोर नजर आ रहा है | आईपीएल मतलब इंडियन प्रीमियर लीग | निश्चित ही खुद को इंडियन म...

इन दिनों भारत के हर शहर, गाँव की गलियों में आईपीएल का ही शोर नजर आ रहा है | आईपीएल मतलब इंडियन प्रीमियर लीग | निश्चित ही खुद को इंडियन मानने वालों का यह लोकप्रिय खेल है परन्तु खेल के नाम पर यह भोंडे तमाशे के सिवाय कुछ भी नहीं है | गर्मियों के दिनों में जहाँ समस्त भारत में पानी की कमी रहती है इस तमाशे के लिए तैयार मैदानों पर लाखों गैलन पानी प्रतिदिन बहा दिया जाता है | करोड़ों युवाओं सहित भारत के मध्यमवर्गीय वर्ग के लोग इस दौरान आईपीएल सट्टे की गिरफ्त में आकर अपनी जिंदगी बर्वाद कर बैठते है और यह सब होता है खुले आम | 

इस दौरान हिन्दुओं के त्योहारों पर आरोप लगाने वाली जमात इस तमाशे के विरोध में एक शब्द तक नहीं कहती | कुल मिलाकर यह एक ऐसा तमाशा है जो अमीरों के लिए, अमीरों के द्वारा अथवा अमीरों के स्वामित्व और फंडिंग के लिए आयोजित किया जाता है | जहाँ एक तरफ किसान सूखे से मर रहे हों, आमजन एक एक बूँद पानी के लिए परेशान हो रहां हो, उस समय अमीरों के मनोरंजन के लिए अतिरंजित तमाशा आयोजित करना और लाखों लीटर पानी की खपत अनैतिक ही कही जा सकती है । मजे की बात यह है कि होली पर पानी बचाने का सन्देश देने वाले मीडिया के भांड इस विषय पर चुप्पी साध लेते हैं | 

आईपीएल की आड़ में भारत में खेला जाने वाला अंग्रेजों का खेल क्रिकेट दरअसल एक ऐसा षड़यंत्र प्रतीत होता है जो पुरातन काल में शारीरिक विकास हेतु खेले जाने वाले भारतीय खेलों को निगल चुका है | यहाँ एक बात यह भी ध्यान देने योग्य है कि क्रिकेट केवल उन देशों में खेला जाता है, जहाँ कभी अंग्रेजों का शासन रहा | अतः इसे एक औपनिवेशिक खेल या गुलामी का प्रतीक भी कहा जा सकता है | 

हम भूल बैठे है अपने बचपन के खेल

क्रिकेट सरीखे अंग्रेजों के खेल के प्रति भारतीयों की दीवानगी को देखकर हैरत होना स्वाभाविक है | ऐसा प्रतीत होता है मानों अंग्रेजों के भारत आने के पूर्व जैसे कोई अन्य खेल भारत में खेले ही न जाते हों | क्रिकेट जैसे खेलों के लिए महंगे उपकरणों की आवश्यकता होती है जिसे हर कोई खरीद नहीं सकता है अतः यह खेल जनसाधारण के लिए है ही नहीं परन्तु फिर भी इस खेल (तमाशे या सर्कस) का मुख्य पात्र भारत का गरीब अथवा मध्यमवर्गीय व्यक्ति है वो भी दर्शक के रूप में | 

दरअसल अंग्रेजों के भारत आगमन के समय से ही भारत में सांस्कृतिक बदलावों के दौर में तीव्रता आयी थी जिनका मकसद था भारतीयों को इंडियन बना कर सदा के लिए गुलाम बनाये रखना, जो दिखने में भारतीय हो परन्तु अंदर से अंग्रेज | एक ऐसा भारतीय जो भूल गया हो कि आत्मज्ञान क्या है ? वो भूल गया हो कि आत्मज्ञान स्वस्थ एवं स्वच्छ शरीर के द्वारा ही प्राप्त किया जा सकता है | एक ऐसा भारतीय जो भूल गया हो कि प्राचीन भारत में बचपन से ही व्यायाम का महत्व समझाया जाता रहा है | दरअसल सनातन धर्म के अनुसार मोक्ष प्राप्ति के लिए ‘काया-साधना’ करनी बेहद आवश्यक है जिसे प्राचीन भारत में खेलों के माध्यम से सिखाया जाता था | खेल खेल में बच्चों को योग सिखाया जाता था | योग अर्थात शारीरिक शक्ति की वृद्धि और इन्द्रीयों पर पूर्ण नियन्त्रण करना | वैदिक काल से ही सभी को शारीरिक क्षमता वृद्धि के लिये प्रोत्साहित किया जाता था। जहाँ ब्राह्मणों को अध्यात्मिक तथा मानसिक विकास के लिये प्रोत्साहित किया जाता था, वहीं क्षत्रियों को सशक्त व सामर्थ्यवान बनाने के लिये रथों की दौड, धनुर्विद्या, तलवारबाज़ी, घुड सवारी, मल्ल-युद्ध, तैराकी, तथा आखेट का प्रशिक्षण दिया जाता था। श्रमिक वर्ग भी बैलगाडियों की दौड में भाग लेते थे। आधुनिक ओलम्पिक खेलों की बहुत सी परम्परायें भारत के माध्यम से ही यूनान में गयीं थीं। हडप्पा तथा मोहनजोदरो के अवशेषों से ज्ञात होता है कि ईसा से 2500-3500 वर्ष पूर्व सिन्धु घाटी सभ्यता में कई प्रकार के अस्त्र-शस्त्र प्रयोग किये जाते थे। उन में से तोरण (जेविलिन) , चक्र (डिस्कस) इत्यादि खेल मनोरंजन के लिये प्रयोग किये जाते थे।

इसके अतिरिक्त बलराम, भीमसेन, हनुमान, जामवन्त, और जरासन्ध आदि के नाम मल्ल-युद्ध में प्रख्यात हैं। विवाह के क्षेत्र में भी शारिरिक बल के प्रमाण स्वरूप स्वयंबर में भी शारीरिक शक्ति और दक्षता का प्रदर्शन किसी ना किसी रूप में शामिल किया जाता था। ऱाम ने शिव-धनुष पर प्रत्यन्चा चढा कर और अर्जुन नें नीचे रखे तेल के कढायें में मछली की आँख का प्रतिबिम्ब देख कर ऊपर घूमती हुयी मछली की आँख का भेदन कर के निजि दक्षता का प्रमाण ही तो दिया था।

बुद्ध काल में शारीरिक क्षमता बनाने तथा दर्शाने के विधान अपनी पराकाष्ठा पर पहुँच गये थे। गौतम बुद्ध स्वयं सक्षम धनुर्धर थे और रथ दौड, तैराकी तथा गोला फैंकने आदि की स्पर्द्धाओं में भाग ले चुके थे। ‘विलास-मणि-मंजरी’ ग्रंथ में त्र्युवेदाचार्य नें इस प्रकार की घटनाओं का उल्लेख किया है। अन्य ग्रंथ ‘मानस-उल्हास’ (1135 ईसवी) में सोमेश्वर नें भारश्रम (व्हेट लिफटिंग) और भ्रमण-श्रम ( व्हेट के साथ चलना-दौडना) आदि मनोरंजक खेलों का उल्लेख किया है। यह दोनो आज औलम्पिक्स खेलों की प्रतिस्पर्धायें बन चुकी हैं। मल्ल-स्तम्भ ऐक विशिष्ट प्रकार की कला थी जिस में प्रतिस्पर्धी कमर तक पानी में खडे रह कर तथा अपने अपने सहयोगियों के कन्धों पर सवार हो कर ऐक दूसरे से मल्लयुद्ध करते थे।चीन के पर्यटक ऐवं राजदूत फाहियान तथा ह्यूनत्साँग ने भी कई प्रकार की भारतीय खेल प्रतिस्पर्धाओं का उल्लेख किया है। नालन्दा तथा तक्षशिला के शिक्षार्थियों में तैराकी, तलवारबाज़ी, दौड़, मल्लयुद्ध, तथा कई प्रकार की गेंद के साथ खेले जाने वाले खेल लोकप्रिय थे।

सोहलवीं शताब्दी के विजयनगर में निवास कर रहे पुर्तगीज़ राजदूत के उल्लेखानुसार महाराज कृष्णदेव राय के राज्य में कई क्रीडा स्थल थे तथा महाराज कृष्णदेव राय स्वयं भी अति उत्तम घुडसवार, और मल्लयोद्धा थे। भारतीय खेलों की मुख्य विशेषता थी कि मनोरंजन करने के लिये किसी विशिष्ट प्रकार के साजो सामान की आवश्यक्ता नहीं पडती थी। ना ही किसी प्रशिक्षित अम्पायर की ज़रूरत पडती थी। खेल का मुख्य लक्ष्य मनोरंजन के साथ साथ शारीरिक क्षमताओं का विकास करना होता था। भारत के कुछ लोकप्रिय खेल जो आज पाश्चात्य देशों में स्टेटस-सिम्बल माने जाते हैं इस प्रकार थेः-

सगोल कंगजेट – 

आधुनिक पोलो की तरह का घुड सवारी युक्त खेल 34 ईसवी में मणिपुर राज्य में खेला जाता था। इसे ‘सगोल कंगजेट’ कहा जाता था। सगोल (घोडा), कंग (गेन्द) तथा जेट (हाकी की तरह की स्टिक)। कालान्तर मुस्लिम शासक उसी प्रकार से ‘चौग़ान’ (पोलो) और अफग़ानिस्तान वासी घोडे पर बैठकर ‘बुज़कशी’ खेलतेथे। बुजकशी का खेल अति क्रूर था क्यों कि केवल मनोरंजन के लिये ही ऐक जिन्दा भेड को घुड सवार एक दूसरेसे छीन झपट कर टुकडे टुकडे कर देते थे। सगोल कंगजेट का खेल अँग्रेज़ोंने पूर्वी भारत के चाय बागान वासियों से सीखा और बाद में उस के नियम आदि बना कर उन्नीसवीं शताब्दी में इसे पोलो के नाम से योरुपीय देशों में प्रसारित किया।
बैटलदोड – बैटलदोड का प्रचलन प्राचीन भारत में आज से 2 हजार वर्षपूर्व था। उस खेल को आधुनिक बेड मिन्टन की तरह पक्षियों के पंखों से बनी एक गेन्द से खेला जाता था। आधुनिक बेड मिन्टन खेल अंग्रेज़ों दूारा बैटलदोड का रुपान्तर और संशोधन मात्र है।

कबड्डी – 

इस भारतीय खेल के लिये किसी विशेष साधनों की आवशयक्ता नहीं होती। धरती पर ऐक छोटे मैदान को लकीर खेंच कर दो बराबर भागों मेंबाँट दिया जाता है। दो टीमें ऐक दूसरे के सामने खेलती हैं। उन्हें विपरीत खिलाडी को छूना या पकडना होता है । दोनों टीमें अपने अपने खिलाडियों को बारी बारी से विपरीत टीम के पाले में भेजती हैं जो ऐक ही श्वास में “कवड्डी-कवड्डी” बोलता हुआजाता है और बिना दूसरा श्वास भरे वापिस अपने भाग में आता है। यदि श्वास टूट जाये तो वह असफल माना जाता है। य़दि कोई खिलाडी सीमा से बाहर चला जाये या पकड लिया जाय तो वह असफल घोषित किया जाता है। भारत में तीन प्रकार की कवड्डी खेली जाती है जिन में से संजीवनी कवड्डी, कवड्डी फेडरेशन दूारा नियमित और मान्य है।

गिल्ली डंडा –

यह खेल समस्त भारत में अत्यन्त लोक प्रिय रहा है। इस खेल के लिये लकडी का ऐक छोटा ‘डंडा’, तथा ऐक दोनों ओर से नोकीली ‘गिल्ली’ की आवश्यकता पडती है। गिल्ली को डंडे से चोट कर के थोडा उछाला जाता है और फिर उछली अवस्था में ही उसे पुनः डंडे के आघात से, जहाँ तक हो सके, फैंका जाता है। जो जितनी दूर तक फैंक सके, उसी के आधार पर अंको (स्कोर) का निर्णय होता है। इस खेल के स्थानीय नियम प्रचिल्लित हैं। यदि इसी खेल को गोल्फ की तरह का उच्च कोटि का साजो सामान और आकर्षण प्रदान करा दिया जाये तो यह खेल आज भी विश्व स्तर पर गोल्फ को भी मात दे सकता है जैसे यदि ‘ फाईबर-ग्लास ’ या चन्दन की लकडी की मान्यता प्राप्त वजन और आकार की पालिश करी हुयीं खूबसूरत गिल्लियाँ और डंडे, जिन्हें लैदर के ‘ कैरीबैग्स ’ सें सहायक उठा कर खिलाडियों के साथ मखमली घास के लम्बे-चौडे ‘गिल्ली-डंडा कोर्स’ पर चलें, फैशनेबल युवक-युवतियाँ छतरियों के नीचे बैठ कर दूरबीनों से अन्तर्राष्ट्रीय मैचों को देखने के लिये आमन्त्रित हों, दूरियाँ मापने के लिये स्वचालित ट्रालियों पर ‘ अम्पायर ’ सवार हों और साथ में ‘कमेंट्री’ चलती रहै तो निश्चय ही भारत का प्राचीन खेल गिल्ली डंडा गोल्फ की तरह सम्मानजनक खेल बन सकता है।

आंतरिक खेल

खेल और मनोरंजन केवल पुरुषों तक ही सीमित नहीं थे। महिलाओं को भी खेलों में भाग लेने की पूर्ण स्वतन्त्रता थी। उस के लिये पर्याप्त व्यवस्था भी थी। स्त्रियाँ आत्म-रक्षा की कला में भी निपुण थीं। वह घरेलु क्रीडाओं के माध्यम से भी मनोरंजन कर सकती थीं जैसे कि ‘किकली’, रस्सी के साथ विभिन्न प्रकार से कूदना, ‘मुर्ग़-युद्ध’, ‘बटेर-दून्द’, आदि। अन्य घरेलू साधन इस प्रकार थे जो परिवार में घर के अन्दर खेले जा सकते थे।

शतरंज – 

युद्ध कला पर आधारित यह खेल राज घरानों तथा सामान्य लोगों में अति लोक प्रिय रहा है। ‘अमरकोश’ के अनुसार इस का प्राचीन नाम ‘चतुरंगिनी’ था जिस का अर्थ चार अंगों वाली सैना था। इस में हाथी, घोडे, रथ तथा पैदल सैनिक भाग लेते थे। इस का अन्य नाम ‘अष्टपदी’ भी था।इस को खेलने के लिये ऐक तख्ते की आवश्यक्ता पडती थी जिस पर प्रत्येकदिशा में आठ खाने बने होते थे। यह खेल युद्ध की चालें, सुरक्षा तथा आक्रमण के सिद्धान्तों का अद्भुत मिश्रण था। छटी शताब्दी में यह खेल महाराज अंनुश्रिवण के समय (531 – 579 ईस्वी) भारत से ईरान में लोकप्रिय हुआ। तब इसे ‘चतुरआंग’, ‘चतरांग’ और फिर कालान्तर अरबी भाषामें ‘शतरंज’ कहा जाने लगा। ईरान में शतरंज के बारे में प्राचीन उल्लेख 600 ईसवी में कर्नामके अरताख शातिरे पापाकान में मिलता है। फिर दसवीं शताब्दी में फिरदौसी कृत महाकाव्य ‘शाहनामा’ में भी इस खेल का उल्लेख है जो विदित करता है कि शतरंज का खेल भारत के राजदूत के माध्यम से ईरान में लाया गया था। भारत से ही यह खेल चीन और जापान में भी गया। चीन के साहित्य में इस का उल्लेख न्यू सेंग जू की पुस्तक यू क्वाइ लू (बुक आफ मार्वल्स) में मिलता है जो आठवीं शताब्दी के अंत में लिखी गयी थी। दक्षिण पूर्व ऐशिया के देशों ने शतरंज का खेल भारत से ही आयात किया तथा कुछ देशोंने जैसे कि स्याम आदि ने भारत से चीन की मार्फत आयात कर के सीखा।

मोक्ष-पट (साँप – सीढी) – 

इस खेल का प्रारम्भिक उल्लेख और श्रेय तेरहवीं शताब्दी में महाराष्ट्र के संत-कवि ज्ञानदेव को जाता है। उससमय इस खेल को मोक्ष-पट का नाम दिया गया था। खेल का लक्ष्य केवल मनोरंजन ही नहीं था अपितु हिन्दू धर्म मर्यादाओं का ज्ञान मनोरंजन के साथ साथ जन साधारण को देना भी था। खेल को एक कपडे पर चित्रित किया गया था जिस में कई खाने बने होते थे और उन्हें ‘घर’ की संज्ञा दी गयी थी।प्रत्येक घर को दया, करुणा, भय आदि भाव-वाचक संज्ञाओं से पहचाना जाताथा। सीढियाँ सद्गुणों का तथा साँप अवगुणों का प्रतिनिधित्व करते थे। साँप और सीढियों का भी अभिप्राय था। साँप की तरह की हिंसा जीव को नरक में धकेल देती थी तथा विद्याभ्यास उसे सीढियों के सहारे उत्थान की ओर ले जाते थे। खेल को सारिकाओं या कौडियों की सहायता से खेला जाता था। सतरहवीं शताब्दी में यह खेल थँजावर में प्रचिल्लित हुआ।इस के आकार में वृद्धि की गयी तथा कई अन्य बदलाव भी किये गये। तब इसे ‘परमपद सोपान-पट्टा’ कहा जाने लगा। इस खेल की नैतिकता विकटोरियन काल के अंग्रेजों को भी कदाचित भा गयी और वह इस खेल को 1892 में इंगलैण्ड ले गये। वहाँ से यह खेल अन्य योरूपीय देशों में लुड्डो अथवा स्नेक्स एण्ड लेडर्स के नाम से फैल गया।

गंजिफा – 

सामन्यता ताश जैसे इस खेल का भी धार्मिक और नैतिक महत्व था। ताश की तरह के पत्ते गोलाकार शक्ल के होते थे, उन पर लाख के माध्यम से या किसी अन्य पदार्थ से चित्र बने होते थे। ग़रीब लोग कागज़ या कँजी लगे कडक कपडे के कार्ड भी प्रयोग करते थे। सामर्थवान लोग हाथी दाँत, कछुए की हड्डी अथवा सीप के कार्ड प्रयोग करते थे। उस समय इस खेल में लगभग 12 कार्ड होते थे जिन पर पौराणिक चित्र बने होते थे। खेल के एक अन्य संस्करण ‘नवग्रह-गंजिफा’ में 108 कार्ड प्रयोग किये जाते थे। उन को 9 कार्ड की गड्डियों में रखा जाता था और प्रत्येक गड्डी सौर मण्डल के नव ग्रहों को दर्शाती थी।

पच्चीसी – 

यह खेल लगभग 2200 वर्ष पुराना है। इसे भारत का राष्ट्रीय खेल कहना उचित हो गा। यह खेल ‘चौपड’, ‘चौसर’ अथवा ‘चौपद’ के नाम से जाना जाता है तथा आज भी भारत में खेला जाता है। यह लोकप्रिय और मनोरंजक भी है तथा नियमों आदि से बाधित भी है। मुस्लिम काल में यह खेल शासकीय वर्ग तथा सामान्य लोगों के घरों में ‘पांसा’ के नाम से खेला जाता था।

इस के अतिरिक्त जन जातियाँ भी जिमनास्टिक की तरह के प्रदर्शनकारी खेलों में पारंगत थी। बाजीगर चलते फिरते सरकस थे। उनके लिये बाँस की सहायता से अपना शरीरिक संतुलन नियन्त्रित कर के रस्सों के ऊपर चलना साधारण सी बात है और आज कल भी वह करते हैं। केवल हाथों के बल पर चलना फिरना,बाँस की सहायता से ऊंची छलाँग (हाई जम्प) भरना आदि के अधुनिक खेल वह बिना किसी सुरक्षा आडम्बरों के दिखा सकते हैं। यह खेद का विषय है कि भारत के आधुनिक शासकों नें इस संस्कृति के विकास के लिये कोई संरक्षण नहीं दियाहै और यह कलायें लगभग लुप्त होती जा रही हैं और हमारे सामने ही हमारी विरासत उजडती जा रही है। उसी प्रकार 1960 के दशक तक यह सभी मनोरंजक खेल प्रायः भारत के गाँवों और नगरों में खेले जाते थे परन्तु अब यह लुप्त होते जा रहै हैं। अगर ऐसा ही चलता रहा तो आने वाले समय में हमारे देश की युवा पीढ़ी कंप्यूटर गेम्स के माध्यम से ही महंगे विदेशी खेलों का हिस्सा बनेगे वो भी मात्र दर्शक के रूप में।

COMMENTS

नाम

अखबारों की कतरन,38,अपराध,1,आंतरिक सुरक्षा,15,इतिहास,66,उत्तराखंड,4,ओशोवाणी,16,कहानियां,37,काव्य सुधा,69,खाना खजाना,20,खेल,19,चिकटे जी,25,जनसंपर्क विभाग म.प्र.,4,तकनीक,83,दतिया,1,दुनिया रंगविरंगी,33,देश,159,धर्म और अध्यात्म,206,पर्यटन,14,पुस्तक सार,45,प्रेरक प्रसंग,80,फिल्मी दुनिया,9,बीजेपी,37,बुरा न मानो होली है,2,भगत सिंह,5,भारत संस्कृति न्यास,7,भोपाल,24,मध्यप्रदेश,272,मनुस्मृति,14,मनोरंजन,45,महापुरुष जीवन गाथा,102,मेरा भारत महान,292,मेरी राम कहानी,23,राजनीति,58,राजीव जी दीक्षित,18,राष्ट्रनीति,25,लेख,993,विज्ञापन,1,विडियो,23,विदेश,46,विवेकानंद साहित्य,10,वैदिक ज्ञान,70,व्यंग,7,व्यक्ति परिचय,23,शिवपुरी,322,संघगाथा,53,संस्मरण,35,समाचार,485,समाचार समीक्षा,728,साक्षात्कार,8,सोशल मीडिया,3,स्वास्थ्य,23,हमारा यूट्यूब चैनल,3,election 2019,24,
ltr
item
क्रांतिदूत: औपनिवेशिक गुलामी का प्रतीक क्रिकेट बनाम विलुप्त होते चुस्ती फुर्ती तंदरुस्ती देने वाले परम्परागत भारतीय खेल |
औपनिवेशिक गुलामी का प्रतीक क्रिकेट बनाम विलुप्त होते चुस्ती फुर्ती तंदरुस्ती देने वाले परम्परागत भारतीय खेल |
https://3.bp.blogspot.com/-3L45Yld-zR8/XJ9OzLOa7VI/AAAAAAAAK4Y/IcR1H3TtICsLEmMScmiYg3ANQY9XezaAwCLcBGAs/s1600/khel.jpg
https://3.bp.blogspot.com/-3L45Yld-zR8/XJ9OzLOa7VI/AAAAAAAAK4Y/IcR1H3TtICsLEmMScmiYg3ANQY9XezaAwCLcBGAs/s72-c/khel.jpg
क्रांतिदूत
http://www.krantidoot.in/2019/03/Cricket-symbol-of-Colonial-Slavery-and-Extinction-of-Rehabilitator-Conventional-bharatiy-games.html
http://www.krantidoot.in/
http://www.krantidoot.in/
http://www.krantidoot.in/2019/03/Cricket-symbol-of-Colonial-Slavery-and-Extinction-of-Rehabilitator-Conventional-bharatiy-games.html
true
8510248389967890617
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS CONTENT IS PREMIUM Please share to unlock Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy